Breaking News
TV News India
क्षेत्रीय समाचार ब्यक्ति बिशेष

धरती और जीवन पद्धति के बारे में सोचना होगा: डॉ.अमृतांशु शुक्ल

यूपी(TV NEWS INDIA) कुशीनगर  कोरोना वायरस का प्रभाव वैश्विक स्तर पर मानव के लिए सबसे बड़ी समस्या बन चुका है। इसने हमें अपनी धरती और अपने जीवन पद्धति के बारे में सोचने के लिए मजबूर किया है। यह बीमारी प्रकृति और मानव के जीवन पद्धति और संतुलन पर विचार करने के लिए भी हमें आमंत्रित करती है। इस बीमारी के कारण हम सब आज इस भौतिकता वादी संस्कृत के निःसार होने के संदर्भ में विचार करने के लिए बाध्य हुए हैं।
उक्त बातें बुद्ध स्नातकोत्तर महाविद्यालय कुशीनगर के प्राचार्य डॉ. अमृतांशु कुमार शुक्ल ने विश्व पृथ्वी दिवस के मौके पर “वैश्विक जीवन और पृथ्वी की मांग” नामक विषय पर आयोजित फेसबुक लाइव व्याख्यान में कही। उन्होंने कहा कि आज चिकित्सक भगवान की भूमिका में हैं। हमें उनके निर्देशों को मानने और उनके परामर्श के अनुसार जीवन जीने की आवश्यकता है। जब हम इस महामारी से उबर पाएंगे तब तक यह महामारी हमें इतनी शिक्षा दे चुकी होगी। जिससे हम अपनी धरती और प्रकृति के संबंध में अपने जीवन को और ज्यादा व्यवस्थित करके जीने का प्रयास करेंगे।

कुशीनगर से ( ब्रृजबिहारी तिवारी की रिपोर्ट )

Related posts

महराजगंज:स्वर्ण व्यवसायी के दुकान सेंधमारी लाखो की चोरी,तीन दिन के भीतर तीसरी चोरी

tvnewsadmin

शरीर में इंफेक्शन फैलने से कोरोना पॉजिटिव सीओ नागेश मिश्रा का पीजीआई में निधन

tvnewsadmin

शहर से बाहर डेरी न ले जाने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराते हुए कड़ी कार्यवाही होगी: डीएम

tvnewsadmin

Leave a Comment