TV News India
Exclusive News दिल्ली / एनसीआर राजनीति

राजस्थान संकट पर संकटमोचन बनी प्रियंका

नई दिल्ली (TV News India) : राजस्थान में कांग्रेस की खिसकती सत्ता फिलहाल बच गई है। उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट की बगावत ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की राह में रोड़े अटका दिए हैं हालांकि, अंतत: अशोक गहलोत ने अपना दम दिखा दिया है और पायलट की बगावत के बावजूद 100 से ज्यादा विधायकों का समर्थन दिखाकर सरकार बचा ली है लेकिन सचिन पायलट की नाराजगी अभी खत्म नहीं हुई है। प्रदेश के दोनों बड़े नेताओं के इसी टकराव को खत्म करने के लिए अब मोर्चा प्रियंका गांधी वाड्रा ने संभाल लिया है।

बताया जा रहा है कि राजस्थान में जो सियासी हालात पैदा हुए हैं उस पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा अशोक गहलोत और सचिन पायलट दोनों से बातचीत कर रही हैं। दोनों नेताओं को प्रियंका गांधी का करीबी माना जाता है ऐसे में प्रियंका सीएम और डिप्टी सीएम के बीच इस स्तर तक पहुंचे विवाद को खत्म करने की कोशिश कर रही हैं।

ये पहला मौका नहीं है इससे पहले जब दिसंबर 2018 में राजस्थान विधानसभा चुनाव के नतीजे आए तो कांग्रेस पार्टी ने अशोक गहलोत को सीएम बनाने का मन बनाया लेकिन सचिन पायलट इस फैसले को मानने पर राजी नहीं हुए घंटों लंबी बैठकें चलती रहीं अंतत: राहुल गांधी के आवास पर अशोक गहलोत और सचिन पायलट से प्रियंका गांधी ने मुलाकात की और सीएम पर फाइनल फैसला हो सका।

अब एक बार फिर दोनों नेताओं के बीच तलवारें खिंच गई हैं उस वक्त सीएम बनाने का मसला था तो इस वक्त सरकार बचाने की चुनौती है ऐसे में अब प्रियंका गांधी ने फिर मोर्चा संभाला है वे दोनों नेताओं से बात कर रही हैं इतना ही नहीं, प्रियंका गांधी वाड्रा के अलावा कांग्रेस के 4 अन्य वरिष्ठ नेताओं ने सचिन पायलट से बात कर समझाने की कोशिश की है कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, महासचिव केसी वेणुगोपाल, अहमद पटेल और पी चिदंबरम ने बातचीत की है सचिन पायलट से जयपुर जाने के लिए कहा गया है।

Report : Ashutosh Singh

Related posts

विश्वास का मुकदमा

tvnewsadmin

समाजसेवी-कर्मवीर भाऊराव पायगोंडा पाटिल (जन्मदिन पर विशेष)

tvnewsadmin

भारत नेपाल सीमा की प्रमुख 10 बॉर्डर 16 अक्टूबर को खोलने की प्रस्ताव को नेपाल सरकार ने दिखाई हरी झंडी

tvnewsadmin

Leave a Comment