TV News India
Tvnewsindia जिला विशेष संवाददाता:Gaurav Jaiswal महराजगंज

महराजगंज:इस्तेमाल के बाद पीपीई किट को इधर उधर छोड़ देने से बढ़ जाता है संक्रमण का खतरा-डॉक्टर विवेक

महराजगंज,08 अगस्त 2020(TV NEWS INDIA)

कोविड-19 के खिलाफ जंग में जुटे स्वास्थ्यकर्मियों, अस्पतालों व अन्य कार्यस्थलों के स्टाफ को सुरक्षित बनाने में पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्यूपमेंट (पीपीई किट) की बड़ी भूमिका है, बशर्ते इस्तेमाल के बाद उसका सही तरीके से निस्तारण किया जाए । इस्तेमाल के बाद इधर-उधर खुले में छोड़ देने से संक्रमण का खतरा और अधिक बढ़ जाता है । अस्पतालों, एम्बुलेंस, एयरपोर्ट और यहाँ तक कि श्मसान घाटों तक पर खुले में फेंकी गयी पीपीई किट के बारे में चिकित्सकों का साफ़ कहना है कि ऐसा करके हम खुद को बचा नहीं रहें हैं बल्कि अपने साथ ही दूसरों को भी मुश्किल में डालने का काम कर रहे हैं। ऐसे में पीपीई किट के इस्तेमाल और निस्तारण में बेहद सावधानी की जरूरत है।
​ मास्टर ट्रेनर/ एसीएमओ डॉ. विवेक श्रीवास्तव का कहना है कि इस्तेमाल की गयी पीपीई किट से कम से कम दो दिन तक संक्रमण का पूरा खतरा रहता है । इसलिए किट का चाहे मास्क हो या गाउन उसको कदापि इधर-उधर न फेंके बल्कि उसके लिए निर्धारित ढक्कन बंद पीली डस्टबिन में ही डालें और अस्पतालों को भी चाहिए कि इस बायो मेडिकल वेस्ट (अस्पताल के कचरे) के निस्तारण की व्यवस्था दुरुस्त रखें । पीपीई किट को इस्तेमाल के बाद इधर-उधर फेंकना आपराधिक कृत्य है, जो कि बहुत ही गंभीर मामला है, ऐसा करते पाये जाने पर महामारी अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी, क्योंकि इससे जहाँ संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है, वहीँ इसका सीधे तौर पर पर्यावरण पर भी असर पड़ता है जो कि लोगों के जीवन को प्रभावित कर सकता है। अस्पतालों ने वैसे इस काम को एजेंसियों के जिम्मे कर रखा है जो कि कचरे को निस्तारित करने के लिए इन्सीनरेटर मशीन लगा रखी हैं, जहाँ पर इसका समुचित निस्तारण होता है ताकि किसी तरह के प्रदूषण का खतरा न रहे ।
​ उन्होंने ने कहा कि इसके लिए केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने बाकायदा गाइड लाइन जारी की है कि पीपीई किट के इस्तेमाल और निस्तारण में किस तरह से सावधानी बरतनी है । उसके मुताबिक़ ही इसके निस्तारण में सभी की भलाई है । उनका कहना है कि देश में इस समय रोजाना लाखों पीपीई किट का इस्तेमाल हो रहा है, और यह एक बार ही इस्तेमाल के लिए हैं । इसलिए इस्तेमाल के बाद इसको मशीन के जरिये ही नष्ट किया जाना सबसे उपयुक्त तरीका है ।

—–
पीपीई किट में क्या-क्या है शामिल

इस किट में सिर से पाँव तक को पूरी तरह से कवर करने का पूरा ध्यान रखा गया है । इसमें सिर को ढकने के लिए कैप, गागल्स/फेस शील्ड, N 95 मास्क, ग्लव्स, गाउन (एप्रन के साथ व एप्रन के बिना दोनों तरह से) और शू कवर शामिल हैं । इसमें से कोई भी चीज को इस्तेमाल के बाद खुले में फेंकने पर पूरी तरह से मनाही है, क्योंकि इसके संपर्क में आने से कोई भी संक्रमण की जद में आ सकता है ।

TV NEWS INDIA

जिला विशेष संवाददाता

Related posts

जीजा साली के प्रेम में हुई राजू विश्वकर्मा की हत्या।

tvnewsadmin

बृजमनगंज थानाक्षेत्र में गला घोंट कर हुई थी हत्या,एक युवक गिरफ्तार:एसपी महराजगंज।

tvnewsadmin

भारत नेपाल सीमा की प्रमुख 10 बॉर्डर 16 अक्टूबर को खोलने की प्रस्ताव को नेपाल सरकार ने दिखाई हरी झंडी

tvnewsadmin

Leave a Comment