कोरोना काल मे नेटवर्क को लेकर indo-nepal क्षेत्रों में करीब 20 गांवों के हजारों युवाओं की पढ़ाई पर संकट

(TV NEWS INDIA)

महराजगंज जिले में पीएम मोदी के तमाम डिजिटल योजनाएं फेल होते नजर आ रहे हैं हम बात कर रहे हैं उन बॉर्डर क्षेत्रों की जो इंडो नेपाल बॉर्डर से सटे हुए है करीब 20 ऐसे गांव हैं जहां बच्चों की पढ़ाई को लेकर किसी अन्य डिजिटल सेवाओं को लेकर लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है

(TV NEWS INDIA) महाराजगंज:- यह समस्या आज की नहीं सदियों की बताई जा रही है इन इंडो नेपाल बॉर्डर क्षेत्रों में अभी तक कोई भी नेटवर्किंग की सुविधा उपलब्ध नहीं है 2G नेटवर्क के लिए भी गांव से करीब 1 किलोमीटर नेटवर्क रेंज में जाना पड़ता है और ऐसे में कई मामले ऐसे भी सुनने में आए हैं कोरोना काल में अगर कोई घर छोड़कर नेटवर्क रेंज में जाता है तो यहां बॉर्डर क्षेत्र के अस्थानी प्रशासन POLICE सेना S.S.B द्वारा बच्चों को बुरी तरह पीटने का भी मामला सामने आया है शिक्षा नीति की देखे तो ज्यादातर स्कूल ,कॉलेज ऑनलाइन पढ़ाई की बात कह रही हैं और ऐसे में करीब 20 गांव ऐसे हैं जैसे सुंडी, हरदी डाली ,खनुवा ,बरगदही उर्फ कैथवलिया ऐसी करीब 20 गांव हैं जहां पर नेटवर्क का कोई ठिकाना नहीं क्या इन इंडो नेपाल बॉर्डर क्षेत्रों में कभी नेटवर्क आ पाएगा या फिर उन हजारों युवाओं को पढ़ाई छोड़ देनी चाहिए हाल ही में सुनने में आया है सरकार द्वारा समुंदरों में नेटवर्किंग सम्बरीन बिछाया जा रहा है समुंदरों में भी नेटवर्क की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है ऐसे में टीवी न्यूज़ इंडिया का सरकार से सीधा सवाल कि इन बॉर्डर क्षेत्रों में नेटवर्किंग की प्रक्रिया कब से शुरू होगी क्या इन गाँवो में कभी नेटवर्क आ पाएंगे

 

(TV NEWS INDIA)
रिपोर्ट शिवांशु मिश्रा
महराजगंज उत्तर प्रदेश