SBI में 67% ट्रांजैक्शन हुआ ऑनलाइन

बिजनेस (TV News India): कोरोना वायरस महामारी के चलते लोगों का ई-कॉमर्स पर फोकस बढ़ा है. ई-कॉमर्स में तेजी के चलते आनलाइन ट्रांजैक्शन भी बढ़ रहे हैं. देश के सबसे बड़े लेंडर भारतीय स्टेट बैंक के भी कई डिजिटल चैनलों पर होने वाली लेन-देन में तेजी से इजाफा हुआ है. एसबीआई में होने वाले कुल ट्रांजेक्शन में 67 फीसदी ऑनलाइन हो गए हैं.. कोरोना महामारी के पहले यह 60 फीसदी था. एसबीआई के चेयरमैन दिनेश खारा ने इस बात की जानकारी दी है. उन्होंने कहा कि बैंक में डिजिटल लेन-देन की संख्या में बढ़ोत्तरी महामारी के चलते ई-कॉमर्स में आने वाली तेजी की वजह से हुई है.

उन्होंने कहा कि महामारी के दौरान देशभर में कई गतिविधियां प्रभावित हुईं. लोगों ने बाहर निकलने की जग​ह ई-कॉमर्स को प्राथमिकता दी. इस दौरान डिजिटल लेन देन को बढ़ावा मिला, जिसका फायदा हमें हुआ. यह एक कारण है कि हमारे डिजिटल लेनदेन अब 67 फीसदी हो गए हैं. मुझे लगता है कि यह एक बड़ा नंबर है. हालांकि इस बात का ध्यान रख रहे हैं कि हम एक बैंक हैं जो सभी प्रकार के ग्राहकों को सर्विस दे रहे हैं, चोहे वह टेक फ्रेंडली हो या नहीं.

उन्होंने कहा कि रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट सिस्टम और नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर की चौबीस घंटे की उपलब्धता जैसे इकोसिस्टम ने हाल ही में बैंक को अपने डिजिटल लेनदेन को बढ़ाने में मदद की है.

उन्होंने कहा कि लेंडर के डिजिटल लेंडिंग प्लेटफॉर्म YONO(You Only Need One App) ने भी मौजूदा वित्त वर्ष के दौरान महत्वपूर्ण ग्रोथ हासिल की है. अभी वर्तमान में, YONO के 3.5 करोड़ रजिस्टर्ड यूजर्स हैं. बैंक द्वारा अपने मोबाइल ऐप की मदद से प्रति दिन 35,000-40,000 से अधिक बचत खाते खोले जा रहे हैं. चालू वित्त वर्ष के दौरान, YONO के जरिए 12.82 लाख ग्राहकों को लगभग 16,000 करोड़ रुपये के प्री-अप्रूव्ड पर्सनल लोन का वितरण किया गया है.