पीएचडी करने में अब नौकरी या कारोबार नहीं बनेगा बाधा

Youth Special (TV News India):  पीएचडी करने में अब आपकी नौकरी या कारोबार बाधा नहीं बनेगा। आप रोजमर्रा के अपने कामों के साथ अब पार्ट टाइम पीएचडी भी कर सकेंगे। जल्द ही सीएसजेएम यूनिवर्सिटी में इसकी शुरूआत कर दी जाएगी। यह बात सोमवार को उपमुख्यमंत्री डॉ.दिनेश शर्मा ने सीएसजेएम यूनिवर्सिटी के 35वें दीक्षांत समारोह में छात्रों को सम्बोधित करते हुए कहीं।

उप मुख्यमंत्री ने छात्रों से कहा कि यह दीक्षांत समारोह नहीं बल्कि उस दिन की शुरूआत है, जब जो आपने सीखा है उसे समाज तक पहुंचाएं। उन्होंने कमेंट्रेटर रवि चतुर्वेदी का उदाहरण दिया जिन्होंने 88 वर्ष की आयु में खेल के अनछुए पहलुओं पर इस बार पीएचडी की है। डिग्री कॉलेजों की परीक्षा को कम समय में कराने पर जोर दिया। सिलेबस अधूरा रहने पर उसे पूरा कराने पर जोर दिया। ऐसा न हो पाने पर कराए गए सिलेबस के आधार पर ही परीक्षा लेने की बात कहीं।

कोरोना काल में राजस्थान में प्रतियोगी परीक्षा के छात्रों के फंसने से आईं दिक्कतों को देखकर अभ्युदय योजना की शुरूआत की गई हैं। फॉरेंसिक विद्यालय की तर्ज पर काम करने के लिए लखनऊ में लैब तैयार हो रही है।

महाविद्यालयों में एक कॉमन सिलेबस पर पढ़ाई कराने की तैयारी है। लेकिन इस सिलेबस में महाविद्यालय भी अपना अलग सिलेबस जोड़ सकते हैं। जल्द ही 28 निजी विश्वविद्यालय खुलने की बात कहीं। जिन जिलों में विश्वविद्यालय नहीं हैं वहां पर इनको बनवाने की तैयारियां चल रहीं हैं।