डिप्रेशन की वजह बन सकता है जंक फूड का ज्यादा सेवन

लाइफस्टाइल (TV News India): आज के दौर में जंक फूड खाना आम बात हो गई है. बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक जंक फूड के दीवाने हैं. बाजार में भी जंक फूड की भरमार देखी जा सकती हैं. जंक फूड खाने में भले ही स्वादिष्ट लगता है, लेकिन जानकार हमेशा इससे बचने की सलाह देते हैं. अगर आप भी जंक फूड के शौकीन हैं, तो आज आपको इससे होने वाले नुकसान के बारे में बताएंगे. चौंकाने वाली बात यह है कि जंक फूड का ज्यादा सेवन डिप्रेशन जैसी गंभीर समस्या की वजह बन सकता है. ऐसे में स्वस्थ जीवन जीने के लिए इसका इस्तेमाल कम से कम करना चाहिए.

 

क्या होता है जंक फूड

 

कई लोग इस बात को लेकर भी कन्फ्यूज रहते हैं कि कौन सा फूड जंक फूड होता है. ऐसे में सबसे पहले यह जान लेना चाहिए कि आखिर कौन सी खाने की चीजें इस कैटेगरी में आती हैं. जानकारों की मानें तो अधिकतर फास्ट फूड जंक फूड होते हैं. इनमें स्नैक्स, आइसक्रीम, बेकरी प्रोडक्ट, सॉफ्ट ड्रिंक्स आदि चीजें आती हैं.

क्यों सेहत के लिए है नुकसानदायक

हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो जंक फूड में पोषक तत्व बहुत कम मात्रा में होते हैं और कैलोरी, नमक और फैट अधिक होता है. हमारे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए हर दिन पोषक तत्वों की जरूरत होती है, लेकिन जंक फूड खाने के बाद आप पर्याप्त आहार नहीं ले पाते. इसकी वजह से आपके शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है और बीमारियां हो जाती हैं.

जंक फूड से हो सकती हैं ये स्वास्थ्य समस्याएं

  1. कई अध्ययनों में यह देखा गया है कि जंक फूड खाने से हमारे दिमाग की केमिकल प्रोसेस बुरी तरह प्रभावित होती है. इससे हम तनाव को कंट्रोल नहीं कर पाते और डिप्रेशन में जाने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है. जो लोग तनाव और डिप्रेशन की समस्या से जूझ रहे हैं, उनके लिए यह बेहद खतरनाक साबित हो सकता है.
  2. करीब एक दशक पहले अमेरिकन जनरल ऑफ क्लीनिकल न्यूट्रिशन में एक अध्ययन आया था, जिसमें बताया गया था कि लगातार 5 दिन तक जंक फूड खाने से आपकी याददाश्त कमजोर हो सकती है. अत्यधिक शुगर और फैट होने के कारण यह फूड हमारी ब्रेन की गतिविधियों को प्रभावित करता है.
  3. ज्यादा जंक फूड से हमारी बॉडी में इंसुलिन की मात्रा अधिक हो जाती है. ऐसे में टाइप 2 डायबिटीज से जूझ रहे मरीजों के लिए यह खतरनाक हो सकता है. डायबिटीज वाले मरीजों को फास्ट फूड से दूर रहना चाहिए. जंक फूड वजन बढ़ा देता है, जो अन्य बीमारियों का कारण बन जाता है.