बिजनेस के लिए प्रवासी कामगारों को 50 लाख रुपये तक की मदद देगी योगी सरकार

UP Special News (TV News India): योगी सरकार होली पर लाखों प्रवासी कामगारों और श्रमिकों के लिए रोजगार और स्‍वरोजगार का सबसे बड़ा तोहफा लेकर आई है. रोजगार और व्‍यवसाय के लिए यूपी के लोगों को अब दूसरे राज्‍यों की ओर नहीं देखना होगा. योगी सरकार अब प्रवासी कामागारों को उन्‍हें अपने शहर और गांवों में ही रोजगार और स्‍वरोजगार के बड़े अवसर उपलब्‍ध कराने जा रही है. इसके लिए राज्‍य सरकार ने प्रदेश में मुख्‍यमंत्री प्रवासी रोजगार योजना लागू की है. योजना के तहत प्रवासी कामगार केवल 5 फीसदी अंशदान कर अपना खुद का उद्यम शुरू कर सकेंगे. योजना के तहत प्रवासी कामगार 50 लाख रुपये तक की इकाई लगा सकेंगे. परियोजना की लागत का 70 फीसदी हिस्‍सा बैंकों से लोन लिया जा सकेगा जबकि 25 फीसदी हिस्‍सा राज्‍य सरकार अनुदान के रूप में वहन करेगी.

मुख्‍यमंत्री प्रवासी रोजगार योजना के तहत दूसरे राज्‍यों से वापस आए कामगारों को रोजगार और स्‍वरोजगार युक्‍त बनाने के लिए प्रदेश में कार्यरत औद्योगिक और सेवा क्षेत्र की इकाइयों में रोजगार देने के लिए प्रोत्‍साहित किया जाएगा.

योजना के तहत ऐसे प्रवासी कामगार, श्रमिक, जो किसी विधा इलेक्ट्रीशियन, प्लंबर, मैकेनिक, दर्जी, ड्राइवर, बुनाई, रंगाई आदि में स्किल्ड हैं और अपना खुद का रोजगार करने के लिए इच्छुक हैं, ऐसे कामगारों को स्वरोजगार इकाई परियोजनाएं स्थापित करने के लिए राज्‍य सरकार मदद करेगी. राज्‍य सरकार प्रवासी कामगारों, श्रमिकों को अपने गांव, शहर में खुद का उद्यम और सेवा व्यवसाय स्थापित करने के लिए 50 लाख तक की इकाई की स्थापना कराएगी.