नेटवर्क के इंतजार में खाता धारकों को जमीन पर बैठाते हैं बैंक कर्मी

“कोविड-19 निर्देशिका का नहीं होता है पालन”

महराजगंज ब्यूरो। बैंक में खाता धारक अपनी अपनी बचत राशि को सुरक्षा की दृष्टि से अथवा ब्याज कमाने के हेतु बैंक संस्थाओं में जमा करते और आवश्यकतानुसार समय समय पर निकालते रहते हैं। बैंक इस प्रकार जमा से प्राप्त राशि को व्यापारियों एवं व्यवसायियों को ऋण देकर ब्याज कमाते हैं। आर्थिक आयोजन के वर्तमान युग में कृषि, उद्योग एवं व्यापार के विकास के लिए बैंक एवं बैंकिंग व्यवस्था एक अनिवार्य आवश्यकता मानी जाती है जो कि प्रथम दृष्टया खाता धारक के जमा राशि से शुरू होती है। ऐसे में जनपद महराजगंज के नौतनवां कस्बा में स्थित  पंजाब नेशनल बैंक में नेटवर्क न होने के कारण खाता धारकों के ज़मीन पर बैठ कर घंटों नेटवर्क आने के लिए इंजतार करते एक फोटो तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमें न ही लोग माक्स लगाए हैं और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन होते दिख रहा है साथ ही खाता धारक ज़मीन पर बैठकर नेटवर्क आने का इंतजार कर रहे हैं।

बैंक कर्मचारियों के कारनामों के दृश्य का फोटो पोस्ट करने वाले नौतनवा क्षेत्र के समाज सेवी एवं भूतपूर्व सैनिक मनोज कुमार राना ने बताया हम भी नौतनवा के पंजाब नेशनल बैंक के खाता धारक थे  बैंक की दूरव्यवस्थाओं के कारण से ही हमने अपना खाता बंद कर दिया। बैंक में सिर्फ अमीरों और बैंक के दलालों को ही वरीयता मिलता है बाकी आम नागरिक व गरीब यूं ही परेशान होता रहता है। साथ ही उन्होंने बताया बैंक की दुरव्यवस्थाओं को देखने के पश्चात जब ब्रांच मैनेजर से इस संबंध में वार्ता किया तो उन्होंने गंभीरता से न लेते हुए  अपितु नाराज शब्दों में बोला अब कितना व्यवस्था बैंक में करा दिया जाए बैंक में बैठे तो हैं लोग। ब्रांच मैनेजर के इस शब्द से समाज सेवी एवं भूतपूर्व सैनिक मनोज कुमार राना को अत्यंत कष्ट हुआ जिसकी वजह से उन्होंने फोटो खींच कर सोशल मीडिया पर पोस्ट किया। उक्त के संबंध में जब पंजाब नेशनल बैंक नौतनवा के संपर्क सूत्र नंबर 05522-234740 पर संपर्क कर ब्रांच मैनेजर का पक्ष जानने का प्रयास किया गया तो नंबर अमान्य पाया गया जबकि इंटरनेट पर यही नंबर अपडेट है जो की लापरवाही का द्योतक है।