Breaking News
TV News India
बिहार और झारखण्ड

24 घंटे में 35 एमएम हुई बारिश, शहर के आधे से ज्यादा हिस्से में घुटनेभर जमा हुआ पानी, कई जगहों पर बत्ती गुल

बिहार(Tv News India:-)शहर को करीब तीन साल पहले स्मार्ट सिटी का दर्जा तो मिला, लेकिन इस दर्जे के कागजों में ही सिमटने से शहरवासियों को राहत नहीं मिली। बरसों से हर बारिश सड़क, गलियां, मोहल्लों में जमा होने वाला पानी मंगलवार की बारिश में पहले जैसा ही जमा रहा। कई क्षेत्र में तो पहले से भी ज्यादा हालत खराब रही। नालियां उफनीं और कीचड़ निकलकर सड़क पर आ गया। गली-मोहल्लों में सड़कों पर गड्‌ढे, गड्‌ढे में जमा पानी और नाली से निकला कचरा लोगों के लिए सिरदर्द बन गया। बारिश से परेशानी सिर्फ शहर की सड़कों पर ही नहीं हुई, अस्पताल में इलाज करने वाले डॉक्टर और मरीजों को भी खासी तकलीफ उठानी पड़ी। रही-सही कसर बिजली कंपनी ने पूरी कर दी। दक्षिणी क्षेत्र में 10 घंटे तक बत्ती गुल रही तो पूरे शहर में बिजली ने आंखमिचौली चलती रही। बारिश और हवा के बीच जिला परिषद के आगे पेड़ गिरा तो लोगों की आवाजाही भी बाधित हो गई।

हर बारिश में बनती रही है ये योजनाएं 

हर बारिश में नगर निगम जलजमाव से मुक्ति दिलाने के दावे करता रहा है। कभी जिम्मेदारों ने नाला उड़ाही करवाने के दावे किए तो कभी पम्प लगाकर पानी निकालने की योजना बनाई। भोलानाथ पुल के नीचे पम्प लगाए भी, लेकिन यह भी तेज बारिश में नाकाफी रहा। नालियों की उड़ाही के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति ही होती रही। इतना ही नहीं, पिछले साल तो नगर निगम ने ड्रेनेज तक बनाने की योजना बनाई, लेकिन यह भी कागजों में ही सिमट गई। टूटे-फूटे हथिया नाले को भी दुरुस्त नहीं करवाया।

अस्पताल में इलाज करना भी हुआ मुश्किल, लेबर रूम से लेकर वार्ड और नर्सिंग स्टेशन तक पहुंच गया बारिश व नाले का गंदा पानी

भोलानाथ पुल के नीचे कमर भर पानी, डूबी बाइक

शिवपुरी कॉलोनी में नाला न होने से करीब एक फीट तक पानी जमा हो गया। इससे लोग अपने ही घरों में करीब तीन-चार घंटों के लिए कैद हो गए। भोलानाथ पुल के नीचे करीब कमर भर पानी जमा हुआ तो वाहनों की आवाजाही भी बंद हो गई। बाइक सवारों को दक्षिणी क्षेत्र में जाने के लिए खासी मशक्कत करनी पड़ी। कई वाहन सवार तो गिर पड़े। आदमपुर मेन रोड पर इस कदर पानी जमा हो गया कि सड़क पर वाहनों के पहिए थम गए। लम्बा जाम लग गया। सबसे खराब हालत लोहापट्‌टी में रही। यहां नाली बनने के बाद भी पानी का निकास नहीं हो सका। करनी पड़ी। ग्राहक बाढ़ जैसे हालात में घुटनेभर पानी में जाने को विवश हो गए।

आदमपुर चौक और कलेक्ट्रेट परिसर में बारिश से हुए जलजमाव के कारण आमलोगों को काफी परेशानी हुई।

सदर अस्पताल के लेबर रूम से वार्ड तक हो गए बदहाल

सदर अस्पताल में लेबर रूम से लेकर वार्ड और नर्सिंग स्टेशन तक पानी जमा हो गया। नर्सों को पानी से बचने के लिए कुर्सी पर चढ़कर मरीजों के लिए इंजेक्शन तैयार करना पड़ा। नाले व बारिश का पानी वार्ड में घुस गया। मरीजों और परिजनों को खासी परेशानी हुई। अस्पताल में पानी का जलस्तर बढ़ा तो कई महिलाएं अपने बच्चे को बेड से उठाकर गैलरी में ले गईं।

मुंबई और मास्को में भी तो पानी आता है, निदान होगा
लक्ष्य योजना से 60 फीसद काम ही पूरा हुआ है। बाकी 40 फीसद की तैयारी चल रही है। बारिश का पानी अस्पताल में आया तो यह अच्छी बात है। मुंबई और मास्को में भी तो पानी आता है। पानी आएगा तभी तो जलस्तर मेंटेन रहेगा। लेकिन उसका निदान करेंगे। डॉ. विजय कुमार सिंह, सीएस।

पांच साल पहले जुलाई में 355 एमएम बारिश हुई थी

भागलपुर | पिछले 24 घंटे से हो रही रुक-रुककर बारिश ने पांच साल पुराने रिकार्ड को छू लिया। पांच साल पहले जुलाई में 355 एमएम बारिश हुई थी। इस बार उतनी ही बारिश हुई। 24 घंटे में 35 एमएम बारिश दर्ज की गई। जबकि जनवरी से जुलाई तक 600 एमएम बारिश होने का अनुमान है। माैसम विभाग की मानें ताे अगले पांच दिन में तकरीबन 125 एमएम बारिश दर्ज की जा सकती है। मंगलवार काे जिले में 35 एमएम बारिश दर्ज की गई। पिछले 24 घंटे के अंदर शहर में आर्द्रता 100 प्रतिशत दर्ज की गई। माैसम वैज्ञानिक वीरेंद्र कुमार ने कहा कि 14 जुलाई तक 480 एमएम बारिश हाेगी। मंगलवार काे शहर का अधिकतम तापमान 30.6 डिग्री व न्यूनतम तापमान 26.3 डिग्री दर्ज किया गया।

दक्षिणी क्षेत्र में सुबह 6 बजे से कटी बिजली, फाॅल्ट ढूंढने में लग गए 8 घंटे

भागलपुर | शहर में हाे रही बारिश के कारण मंगलवार काे 20 से अधिक इलाकाें में बिजली कटी रही। खासकर दक्षिणी क्षेत्राें में बिजली सुबह छह बजे से लेकर दाेपहर 2.45 बजे तक कटी रही। लाेग जब बिजली गुल हाेने के कारण जाने की काेशिश की ताे पता चला की बिजली कर्मी फाॅल्ट ढूंढ रहे है, लेकिन अब तक पता नहीं चल पा रहा है। एक फाॅल्ट ढूढ़ने में बिजली कर्मी काे 8 घंटे लग गए, उसके बाद पता चला की पटल बाबू फीडर में केबल में खराबी अाने के कारण बिजली गुल है। 10 घंटा लाेग बिजली के लिए परेशान रहे। सुबह से बिजली गुल हाेने के कारण लाेगाें के बीच पानी की समस्या रही।

48 घंटे से सुल्तानगंज अाैर हबीबपुर फीडर की बिजली गुल, डेढ़ दर्जन गांव अंधेरे में

नाथनगर | सुल्तानगंज और हबीबपुर फीडर से सप्लाई होनी वाली बिजली बीते 48 घंटे से गुम है। इससे करीब डेढ़ दर्जन गांव के लोग बिजली नहीं मिलने से परेशान हैं। सुल्तानगंज फीडर से बिजली नहीं मिलने से नाथनगर के दियारा इलाके के गोसाईंदासपुर, राघोपुर, बैरिया, दोगच्छी सहित दर्जनों गांवों के लोग 48 घंटे से लोग अंधकार में हैं। जबकि हबीबपुर फीडर से मिलनेवाली बिजली वाले इलाके नूरपुर, नयाटोला सहित कई गांवों में भी बिजली आपूर्ति बाधित है। नूरपुर के चांद झा ने बताया कि हबीबपुर फीडर की बिजली जहां से नयाटोला मिर्जापुर में बिजली की आपूर्ति होती है, बीते सोमवार की रात से गायब है।

POSTED by:-Ashish Jha

Related posts

खादी के पुजारियों की धरती पर अब चरखे में लगा दीमक

tvnewsadmin

चिकित्सक, पत्रकार ,समाजसेवी को अंतरराष्ट्रीय न्यास स्वरांजलि सेवा संस्थान ने किया सम्मनित

tvnewsadmin

गैस रिफलिंग का अवैध धंधा जोरों पर

tvnewsadmin

Leave a Comment