दिग्विजय की पीएम मोदी को चुनौती, दम है तो भोपाल आकर लड़ें चुनाव

0
61

नई दिल्ली (टीवीन्यूज़इंडिया)। कांग्रेस मध्यप्रदेश विधानसभा में जीत दर्ज करने के बाद लोकसभा में बीजेपी को हराने जुट गई है। कांग्रेस अपने दिग्गज नेताओं को भाजपा के गढ़ में उतार रही है। इसी के मद्देनजर पार्टी ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को भोपाल सीट से उतार दिया है। भोपाल सीट भाजपा का गढ़ है। यहां कांग्रेस का जीतना बड़ा मुश्किल है, लेकिन दिग्विजय चुनाव से पहले ही काफी कॉन्फिडेंट नजर आ रहे हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चुनौती दी है।

उन्होंने कहा कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद आएं और मेरे खिलाफ भोपाल में चुनाव लड़ें। हर चुनाव कठिन होता है, किसी चुनाव को आसान नहीं समझना चाहिए। मैं पूरी तरह आश्वस्त हूं। दिग्विजय ने कहा कि शिवराज या प्रज्ञा ठाकुर कोई भी हो मैं तैयार हूं।

उमा भारती बोलीं- साधारण कार्यकर्ता से हारेंगे दिग्विजय

दिग्विजय सिंह के पीएम नरेंद्र मोदी को चुनौती देने पर केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने पलटवार करते हुए ट्वीट किया कि ”अभी-अभी मैंने टीवी पर देखा कि दिग्विजय सिंह जी कह रहे हैं, मोदी जी भोपाल से लड़ने की चुनौती स्वीकार करें। यह बात हास्यास्पद है। जब दिग्विजय सिंह और अर्जुन सिंह जी मिलकर के कुश्वाहा और सरताज का मुकाबला नहीं कर सके, तो यहां आलोक संजर किसी सामान्य कार्यकर्त्ता का मुकाबला भी दिग्विजय सिंह नहीं कर पाएंगे। दिग्विजय सिंह को हराने के लिए किसी बड़े नेता को भेजने की जरूरत नहीं है। भोपाल की जनता, बीजेपी के साधारण कार्यकर्ता के माध्यम से भी उनको चुनाव हराएगी।”

शिवराज ने किया हमला
दिग्विजय सिंह को भोपाल से उम्मीदवार बनाए जाने पर शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भाजपा प्रदेश की 29 में से 29 सीटों पर लड़ेगी और जीत दर्ज करेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा के सामने कोई चुनौती नहीं है। शिवराज ने प्रियंका गांधी पर भी हमला किया। प्रियंका गांधी की यात्रा पर उन्होंने कहा, यह केवल वोट के लिए यात्रा है। जो यात्राएं चुनाव और वोट के लिए होती है, जनता उसे गंभीरता से नहीं लेती।

भाजपा में मंथन
दिग्गी राजा के भोपाल से मैदान में उतरने के बाद भाजपा में प्रत्याशियों को लेकर लगातार मंथन जारी है। भाजपा में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश महामंत्री वीडी शर्मा, वर्तमान सांसद आलोक संजर,महापौर आलोक शर्मा और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के नाम की चर्चा है।

30 साल से भाजपा का कब्जा
भोपाल सीट पर 30 साल से भाजपा का कब्जा है। कांग्रेस ने 1984 में हुए लोकसभा चुनाव में भोपाल सीट पर जीत दर्ज की थी।  इसके बाद 1989 में बीजेपी ने कांग्रेस से यह सीट छीन ली। तब से लेकर अबतक आठ बार चुनाव हुए और आठों बार बीजेपी के प्रत्याशियों ने मैदान मारा। भोपाल में वर्तमान सांसद आलोक संजर है। वह पिछले लोकसभा चुनाव में 3 लाख से अधिक मतों से जीते थे। भोपाल सीट के लिए 12 मई को मतदान होगा।

कैलाश विजयवर्गीय लड़ने को तैयार
भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने भी भोपाल सीट पर लड़ने की इच्छा जताई है। उन्होंने कहा, अगर पार्टी कहेगी तो मैं भोपाल सीट पर चुनाव लड़ने को तैयार हूं। भोपाल में दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ने में मजा आएगा।

Posted By: Priyamvada M

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here