एफ.आर. लगाने के लिए 40 हजार रुपये की रिश्‍वत लेते रंगे हाथों हुआ गिरफ्तार दरोगा

0
132

गोरखपुर (TV News India): गोरखपुर के बेलघाट थाने में तैनात वर्ष 2016 बैच के दारोगा आशीष मिश्र को एंटी करप्शन (भ्रष्टाचार निवारण संगठन) की टीम ने गुरुवार देर शाम रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया। कोर्ट के आदेश पर दर्ज मुकदमे में F.R. लगाने के लिए उसने रिश्वत मांगी थी। यातायात कार्यालय तिराहे के पास से गिरफ्तार दारोगा को एंटी करप्शन की टीम ने कैंट पुलिस के हवाले कर दिया है।दरोगा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आज जेल भेजा जा रहा है।

मारपीट के एक मामले में विवेचक था दारोगा

बेलघाट क्षेत्र के विनोद कुमार ने इस साल 26 मई को गांव के ही कुछ लोगों के विरुद्ध घर में घुसकर मारपीट और गंभीर चोट पहुंचाने के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया था। मुकदमे में सुलह के लिए दबाव बनाने को लेकर अभियुक्त निर्मला जायसवाल ने कोर्ट से आदेश कराकर विनोद और उनके भाइयों विजय तथा राधेश्याम के विरुद्ध मारपीट और इसकी वजह से गर्भपात के आरोप में मु0स0-159/2019 अंतर्गत धारा 313/452/504  बीते 21 अगस्त को बेलघाट थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। इसकी विवेचना उपनिरीक्षक आशीष मिश्र कर रहा था।

एफआर लगाने के एवज में मांगे 1.50 लाख रुपये

दारोगा ने विनोद के भाई अजय कुमार से मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लगाने के लिए 1.50 लाख रुपये की मांग की। 80 हजार में सौदा तय हुआ।जिसमे आधा पैसा 40 हजार रुपये गुरुवार को दारोगा को दिए जाने थे। अजय की शिकायत पर यातायात कार्यालय के पास टीम ने दारोगा को रंगेहाथ दबोच लिया गया।

दरोगा मूलत: जौनपुर जिले में सरबतहा क्षेत्र के मयारी गांव का रहने वाला है। शाहपुर क्षेत्र के राप्तीनगर में किराये का मकान लेकर परिवार के साथ रहता था।

दरोगा पर बुजुर्ग की पिटाई का भी है आरोप

दरोगा पर बुजुर्ग की पिटाई का भी आरोप है। बेलघाट क्षेत्र के बुलआ भवानी गांव निवासी बक्स सिंह ने पांच दिन पहले पुलिस के उच्चाधिकारियों से मिलकर दरोगा आशीष मिश्रा पर मारने-पीटने का आरोप लगाया है। इस मामले की जांच सीओ गोला कर रहे है। इसके अलावा दो माह पूर्व संतकबीरनगर के सपा नेताओं ने भी वहां के एसपी से शिकायत की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here