पाकिस्तान से छूट कर आए जवान ने सेना पर लगाया उत्पीड़न का आरोप

0
55

धुले, महाराष्ट्र (TV News India):  भारतीय सेना में शामिल एक जवान चंदू चव्हाण ने सेना पर उत्पीड़न का आरोप लगाया है और कहा है कि वह जल्द इस्तीफा देंगे. चंदू चव्हाण साल 2016 में गलती से पाकिस्तान की सीमा में चले गए थे और उन्हें चार महीने बाद रिहा किया गया था. महाराष्ट्र के धुले के रहने वाले चव्हाण ने कहा, ‘‘जब से मैं पाकिस्तान से लौटा हूं लगातार सेना की ओर से उत्पीड़न किया जा रहा है और मुझे संदिग्ध दृष्टि से देखा जाता है, इसलिए मैंने सेना छोड़ने का फैसला किया है.’’

सेना की सफाई
उत्पीड़न के आरोपों पर सेना ने सफाई दी है. एक बयान में कहा गया है कि चंदू के खिलाफ पांच मामले चल रहे हैं. उन्होंने आम चुनावों में राजनीतिक पार्टियों के समर्थन में प्रचार किया जिसने काफी सुर्खियां बटोरीं. इस संबंध में शिकायत भी की थी.

सेना ने कहा, ”हाल ही में यूनिट लाइंस के पास चंदू चव्हाण को शराब के नशे में पाया गया था. जब तक उनके खिलाफ अनुशासनात्मक जांच चल रही है वे 3 अक्टूबर 2019 से बिना छुट्टी लिए यूनिट से बाहर हैं. सेना ऐसे किसी भी गैर अनुशासनात्मक रवैये को बर्दाश्त नहीं करती है.”
चंदू चव्हाण के नजदीकी सूत्रों ने बताया कि चव्हाण ने अपना त्याग पत्र अहमदनगर स्थित सैन्य टुकड़ी के कमांडर को भेज दिया है. चव्हाण को पाकिस्तानी रेंजर्स ने करीब चार महीने तक अपने कब्जे में रखा और बेरहमी से पीटा और यातना दी और मरणासन्न हालत में भारत को सौंपा.

पिछले महीने चव्हाण सड़क हादसे में घायल हो गए थे. उनके चेहरे और सिर में गंभीर चोटें आई थी. चार दांत भी टूट गए थे. भौंह, होंठ पर भी चोटें आई और अभी भी वह अस्पताल में भर्ती है. यह हादसा तब हुआ जब वह मोटरसाइकिल से अपने गृहनगर बोहरीवीर जा रहे थे.

POSTED by:-Ashish Jha

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here